logo

Pages

Thursday, November 18, 2010

बेर्टोल्ट ब्रेष्ट की कविता - सभी अफ़सर उनके ...


वो सब कुछ करने को तैयार
सभी अफसर उनके
जेल और सुधार-घर उनके
सभी दफ़्तर उनके
                        कानूनी किताबें उनकी
                        कारखाने हथियारों के
                        पादरी प्रोफ़ेसर उनके
                        जज और जेलर तक उनके
                       सभी अफसर उनके
अखबार, छापेखाने
हमें अपना बनाने के
बहाने चुप कराने के
नेता और गुण्डे तक उनके
                       एक दिन ऐसा आयेगा
                       पैसा फिर काम न आएगा
                       धरा हथियार रह जायेगा
                       और ये जल्दी ही होगा
                       ये ढाँचा बदल जायेगा
                               ये ढाँचा बदल जायेगा
                                           ये ढाँचा बदल जायेगा
  • बेर्टोल्ट ब्रेष्ट ('मदर' नाटक से)

1 comments:

Colours........ said...
This comment has been removed by the author.

Post a Comment